Best Urdu Shayari in Hindi | 120+ उर्दू शायरी {Urdu Shayari} With Images-Last Updated 2021

Best Urdu Shayari in Hindi: We have included a few love Shayari here to use while greeting and meeting with friends and family on this special day. The year ends and the new year begins, so read to learn about the top Urdu Shayari and the best Urdu Shayari in hindi.

In addition to being prominent and outstanding, Urdu poetry has many other attributes as well. A popular Persian form of poetry, Urdu Sher O Shayari is a rich and varied field that has many aspects. A “Sher” is always a pair and usually rhymes. A very subtle but beautiful meaning and picture of life is depicted in this piece.

A collection of Urdu poetry and Sher O Shayari

In Urdu poetry(Best Urdu Shayari in Hindi), the origins can be found in ancient Arabic and Persian poetic forms. Our cultural heritage includes Indian poetry, which we also refer to as Indian poetry. At one time, this was a popular form of poetry, as kings and emperors used to be the best poets and writers in their court. Continue reading this entertaining article to learn more about Shayari.

Shayari: A Brief History

Language Urdu is capable of bringing life to words. Couples in Urdu can completely forget all their tensions and relax. Among young lovers, they are a favorite way to express their feelings of love and are very emotional by nature.

The whole day can be enchanted if done with the right feelings. It is nothing short of an art. Despite its long history, it is impossible to calculate when exactly Urdu poetry evolved. Further, the Arabic language has no particular traditions and is deeply influenced by Persian and Arabic writing.

In addition, it was heavily influenced by the leading Urdu poets of India and was originally a combination of Urdu, Hindustani, and Hindi.

Mushayars can be organized anywhere there is an Urdu poetry exhibition, even in the contemporary world. Mushayars are popular because they are a way to relax, have fun, and experience soul-pleasing experiences.

With this collection of 120+ Urdu poetry of famous poets, you will read a selection of the Best Urdu Shayari in Hindi With Images.

Here is the best collection of Urdu Hindi Shayari for you today in the world of Sher-o-Shayari, which will be liked by all of you who are fans of this genre.

Let’s start with this post about the best poetry. It’s a sad, romantic and best Urdu Shayari in Hindi.

Best Urdu Shayari in Hindi

I invite you to like and share this post on Facebook and Whatsapp with all your friends and begin with the lion of the legendary poet Ghalib.

कौन आएगा यहाँ कोई न आया होगा ।
मेरा दरवाज़ा हवाओं ने हिलाया होगा ।।

1-Kaun Aayega Yanha Koi Aaya Hoga,
Mera Darwazaa Hawaon Ne Hilaya Hoga.
-“Kaif Bhopali”

Urdu Shayari in Hindi -उर्दू शायरी

Best Urdu Shayari

वो बारिश में कोई सहारा ढूँढता है फ़राज़ ।
ऐ बादल आज इतना बरस
की मेरी बाँहों को वो सहारा बना ले ।।
Wo Barish Mein Koi Sahara Dhoondata Hai Faraz,
2-E Badal Aaj Itna Baras,
Ki Meri Bahon Ko Wo Sahara Bana Le
“Faraz Ahmed“

और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा।
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा ।।
3-Aur Bhi Dukh Hain Zamane Me, Mohabbat Ke Siwa,
Rahate Aur Bhi Hain, Vasl Ki Rahat Ke Siwa.
-“Faiz Ahmad Faiz”

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’।
शर्म तुम को मगर नहीं आती।।
4-Kaba Kis Muh Se Jaoge “Galib”,
Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati.
-”Mirza Ghalib”

अपने हर इक लफ़्ज़ का ख़ुद आईना हो जाऊँगा ।
उसको छोटा कह के मैं कैसे बड़ा हो जाऊँगा ।।
5-Apane Har Ek Lafz Ka Khud Aayina Ho Jaunga
Usako Chhota Kah Ke Main Kaise Bada Ho Jaunga.
-”Wasim Barelvi”

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है ।
मैं वह कतरा हूं समंदर मेरे घर आता है ।।
6-Khud Ko Manavaane Ka Mujhako Bhi Hunar Aata Hai,
Mai Wah Katara Hun Samndar Mere Ghar Aata Hai.
-”Wasim Barelvi”

Best Shayari in Urdu Hindi

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं ‘मोहसिन’ ।
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तिरी आँखें ।।
7-Yun Dekhate Rahana Use Achchha Nahi .”Mohsin Naqvi”,
Wo Kanch Ka Paikar Hain To, Patthar Tiri Ankhen.
-”Mohsin Naqvi “

शमा भी, उजाला भी मैं ही अपनी महफिल का ।
मैं ही अपनी मंजिल का राहबर भी, राही भी ।।
8- Shama Bhi, Ujaala Bhi Main Hi Apni Mehafil Ka,
Main Hi Apni Manjil Ka Rahbar Bhi, Rahi Bhi.
-“Majrooh Sultanpuri”

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना।
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।।
9-Esharat-E-Katara Hai Dariya Me Fana Ho Jana,
Dard Ka Had Se Guzarana Hain Dawa Ho Jana.
-”Mirza Ghalib”

हम को मिटा सके ये ज़माने में दम नहीं ।
हम से ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं ।।
10-Ham Ko Mita Sake Ye Zamane Me Dam Nahi,
Ham Se Zamana Khud Hain, Zamane Se Ham Nahi.
-”Jigar Moradabadi”

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता ।
कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता ।।
11- Kabhi Kisi Ko Mukammal Jahaan Nahi Milata,
Kahi Zamin Kahi Aasamaan Nahi Milata.
-“Nida Fazli”

ये सोचना ग़लत है के’ तुम पर नज़र नहीं ।
मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बेख़बर नहीं ।।
12-Ye Sochana Galat Hain Ke, Tum Par Nazar Nahi Hain, Masaruf Ham Bahut Hain, Magar Bekhabar Nahi.
-“Alok Shrivastava”

दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं ।
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं ।।
13-Dil me Kisi Ke Raah Kiye Ja Raha Hun Main, Kitana Haseen Gunaah Kiye Ja Raha Hun Main.
-”Jigar Moradabadi”

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद न कर दे ।
तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर ।।
14- Har Waqt Ka Hansana Tujhe Barbaad Naa Kar De, Tanhayi Ke Lamho Me Kabhi Ro Bhi Liya Karo .
-”Mohsin Naqvi

Best Urdu Shayari in Hindi for You

वो अफ़्साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन ।
उसे इक ख़ूब-सूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा ।।
15- Wo Afasaana Jise Anzaam Tak Lana Naa Ho Mumkin, Use Ek Khubsurat Mod De Kar Chhodana Achchha.
-“Sahir Ludhianvi”

अपनी इस आदत पे ही इक रोज़ मारे जाएँगे ।
कोई दर खोले न खोले हम पुकारे जाएँगे ।।
16- Apani Is Aadat Pe Hi Ek Roz Maare Jayenge,
Koi Dar Khple Naa Khole Ham Pukare Jayenge .
-”Wasim Barelvi”

सुब्ह होती है शाम होती है ।
उम्र यूँही तमाम होती है ।।
17- Subh Hoti Hain Shaam Hoti Hain,
Umra Yun Hi Tamaam Hoti Hain.
-“Munshi Ameerullah Tasleem”

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता ।
हूँ मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है।।
18- Main Har Raat Ki Khwahishon Ko Khud Se Pahale Sula Deta,
Hun Magar Roz Subah Ye Mujhase Pahalae Jaag Jati Hain
-“Gulzar”

दोस्ती अपनी भी असर रखती है फ़राज़ ।
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो ।।
19- Dosti Apni Bhi Asar Rakhti Hai Faraz,
Bahut Yaad Aayenge Jara Bhool Ke Dekho
-“Faraz Ahmed“

कोई हाथ भी न मिलायेगा, जो गले लगोगे तपाक से ।
ये नये मिज़ाज का शहर है, ज़रा फ़ासले से मिला करो ।।
20- Koi Hath Bhi Naa Milayega Jo Gale Lagoge Tapaak Se,
ye Naye Mizaaz Ka Shahar Hain, Jara Fasale Se Mila Karo.
-“Bashir Badr”

Best Urdu Shayari in Hindi- Shayari Urdu in Hindi

तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता ।
मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सीखा देता ।।
26- Teri Nafaraton Ko Pyaar Ki Khushabu Bana Deta, Mere Bas Men Agar Hota Tujhe Urdu Sikha Deta.”Wasim Barelvi”

शोर की तो उम्र होती हैं ।
ख़ामोशी तो सदाबहार होती हैं।।
27- Shor Ki To Umr Hoti Hain, Khamoshi To Sadabhahaar Hoti hain “Gulzar”

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां।
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन।।
21-Karz Ki Peete The May, Lekin Samjhate The Ki Han,
Rang Lavegi Hamari Faka-Masti Ek Din.
-”Mirza Ghalib”

अब तो ख़ुद अपने ख़ून ने भी साफ़ कह दिया ।
मैं आपका रहूंगा मगर उम्र भर नहीं ।।
22- Ab To Khud Apane Khoon Ne Bhi Saaf Kah Diya,
Main Aapka Rahunga Magar Umra Bhar Nahi.
– “Alok Shrivastava”

Famous Best Urdu Shayari in Hindi

कल थके-हारे परिंदों ने नसीहत की मुझे ।
शाम ढल जाए तो ‘मोहसिन’ तुम भी घर जाया करो ।।
23- Kal Thake-Haare Parindo Ne Nasihat Ki Mujhe,
Sham Dhal Jaay To Mohsin Naqvi. Tum Ghar Jaya Karo.
-”Mohsin Naqvi”

सदा ऐश दौराँ दिखाता नहीं ।
गया वक़्त फिर हाथ आता नहीं ।।
24- Sada Esh Daura Dikhata Nahi,
Gaya Waqt Fir Hath Aata Nahi.
-“Mir Hasan”

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले।
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले।।
25- Hazaron Khwahishe Esi Ki Har Khwahish Pe Dam Nikale,
Bahut Nikale Mire Armaan Lekin Fir Bhi Kam Nikale.
-”Mirza Ghalib”

26-

27-

मुझे सहल हो गई मंजिलें वो
हवा के रुख भी बदल गये।
तिरा हाथ, हाथ में आ गया कि
चिराग राह में जल गये।।
28- Mujhe Sahal Ho Gai Manzilein Wo , Hawa Ke Rukh Bhi Badal Gaye, Tira hath, Hath Mein Aa Gaya Ki Chirag Raah Mein Jal Gaye. “Majrooh Sultanpuri”

दिल के फफूले जल उठे सीने के दाग़ से ।
इस घर को आग लग गई घर के चराग़ से ।।
29- Dil Ke Fafule Jal Uthe Seene Ke Daag Se, Is Ghar Ko Aag Gayi Ghar Ke Chirag Se. “Mahtab Rai Taban”

Best Urdu Shayari in Hindi for Girlfriend

ज़रा पाने की चाहत में बहुत कुछ छूट जाता है ।
नदी का साथ देता हूं, समंदर रूठ जाता है ।।
30- Jara Pane Ki Chahat Me Bahut Kuchh Chhut Jata Hain, Nadi Ka Sath Deta Hun, Samndar Ruth Jata Hain. “Alok Shrivastava”

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है ।
समुंदरों ही के लहजे में बात करता है ।।
31— Zara Sa Katara Kahi Aaj Agar Ubharata Hai, Samundaron Hi Ke Lahaje Men Baat Karata Hain.”Wasim Barelvi”

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन।
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़्याल अच्छा है।।
32— Hamko Malum Hai Zannat Ki Haqikat Lekin, Dil Ke Khush Rakhane Ke “Galib” Ye Khyaal Achchha Hain.”Mirza Ghalib”

वो अक्सर दिन में बच्चों को सुला देती है इस डर से ।
गली में फिर खिलौने बेचने वाला न आ जाए ।।
33— Wo Aksar Din Me Bachcho Ko Sula Deti Hain IS Dar Se, Gali Me Fir Khilaune Bechane Wala Naa Aa jaye.”Mohsin Naqvi”

ये जिस्म क्या है कोई पैरहन उधार का है ।
यहीं संभाल के पहना, यहीं उतार चले ।।
34— Ye Jism Kya Hain, Koi Paiharan Udhar Ka Hain, Yahi Sambhal Ke Pahana, Yahi Utaar Chale. “Alok Shrivastava”

जो कभी हर रोज़ मिला करते थे फ़राज़ ।
वो चेहरे तो अब ख़ाब ओ ख़याल हो गए ।।
35— Jo Kabhi Har Roz Mila Karte The Faraz, Wo Chehare To Ab Khab-O-Khyal Ho Gaye “Faraz Ahmed“

तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था ।
फ़िर उस के बाद मुझे कोई अजनबी नहीं मिला ।।
36— Tamaam Rishte Ko Main Ghar Pe Chhod Aaya Tha, Fir Us Ke Baad Mujhe Koi Ajnabi Nahi Mila. “Bashir Badr”

न पाने से किसी के है न कुछ खोने से मतलब है।
ये दुनिया है,, इसे तो कुछ न कुछ होने से मतलब है ।।
37— Naa Pane Se Kisi Ke Hai Naa Khone Se Matalab Hai, Ye Duniya Hai,, Ise To Kuchh Na Kuchh Hone Se Matalab Hai.”Wasim Barelvi”

Best Urdu Shayari in Hindi for Boyfriend

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे ।
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे ।।
38— Ghalib Bura Na Maan jo waaiz bura kahe, Aisa bhi koi hai ki sab achha kahein jise.”Mirza Ghalib”

वहाँ से एक पानी की बूँद ना निकल सकी “फ़राज़” ।
तमाम उम्र जिन आँखों को हम झील लिखते रहे।।
39— Wahan Se Ek Pani Ki Bund, Na Nikal Saki “Faraz”, Tamaam Umar Jin Aankhon Ko Ham, Jheel Likhte Rahe “Faraz Ahmed“

नादान हो जो कहते हो क्यों जीते हैं “ग़ालिब”।
किस्मत मैं है मरने की तमन्ना कोई दिन और।।
40— Nadan Ho Jo Kahate Ho Kyo Jeete Hain “Galib” Kisamat Me Hain Marane Ki Tammanna Koi Din Aur.”Mirza Ghalib”

देख ज़िन्‍दां के परे जोशे जुनूं,
जोशे बहार।
रक्‍स करना है तो फिर पांव की
ज़ंजीर ना देख।।
41— Dekh Zinda Ke Pare Joshe Junoon, Joshe Bahaar, Raqs Karna Hai To Phir Paanv Ki Zanzeer Na Dekh. “Majrooh Sultanpuri”

उर्दू के इस ख़ुलूस को हम ढ़ूंढ़ते कहां।
अच्छा हुआ ये ख़ुद ही लहू में उतर गया ।।
42— Urdu Ke Khulus Ko Ham Dhundhate Kaha, Achchha Hua Ye Khud Hi Lahu Me Utar Gaya. “Alok Shrivastava”

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गये ।
और मैं था कि सच बोलता रह गया ।।
43— Jhuth Wale Kahi Se Kahi Badh Gaye, Aur Main Tha Ki Sach Bolata Rah Gaya.”Wasim Barelvi”

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई ।
जैसे एहसान उतारता है कोई ।।
44— Din Kuchh Ese Guzarata Hain Koi, Jaise Ehasaaan Utarata Hain Koi “Gulzar”

मैंने मौत को देखा तो नहीं,
पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी।
कमबख्त जो भी उससे मिलता हैं,
जीना ही छोड़ देता हैं।।
45— Maine Maut Ko Dekha To Nahi? Par Shayad Wo Khubsurat Hogi. Kambakht Jo Bhi Usase Milata Hain, Jeena Chhod Deta Hain “Gulzar”

Best Urdu Shayari in Hindi for Wife

रात के टुकड़ों पे पलना छोड़ दे ।
शमा से कहना के जलना छोड़ दे ।।
46— Raat Ke Tukado Pe Palana Chhod De, Shama Se Kahna Ke Jalana Chhod De.”Wasim Barelvi”

रोक सकता हमें ज़िन्‍दाने बला क्‍या मजरूह ।
हम तो आवाज़ हैं दीवारों से छन जाते हैं ।।
47— Rok Sakta Hame Zindane Bala Kya Majrooh, Hum To Aawaz Hai Deewaron Se Chhan Jate Hain. “Majrooh Sultanpuri”

कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था।
आज की दास्ताँ हमारी है।।
48— Kal Ka Vakiaa Tumhaara Tha, Aaj Ki Dastan Hamari Hain “Gulzar”

एक सो सोलह चाँद की रातें ,
एक तुम्हारे कंधे का तिल।
गीली मेहँदी की खुश्बू झूठ मूठ के वादे,
सब याद करादो, सब भिजवा दो,
मेरा वो सामान लौटा दो।।
49— Ek So Solah Chand Ki Raaten, Ek Tumhare Kandhe Ka Til, Gili Maihandi Ki Khushbu, Jhuth-Muth Ke Wade, Sab Yaad Karado, Sab Sab Bhujwa Do, Mera Wo Saamaan Lauta Do “Gulzar”

सभी रिश्ते गुलाबों की तरह ख़ुशबू नहीं देते।
कुछ ऐसे भी तो होते हैं जो काँटे छोड़ जाते हैं।।
50— Sabhi Riste Gulabo Ki Tarah Khushbu Nahi Dete, Kuchh Yese Bhi To Hote Hain Jo Kante Chhod Jate Hain.”Wasim Barelvi”

मजरूह लिख रहे हैं वो अहल-ए-वफ़ा का नाम।
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह ।।
51— Majrooh Likh Rahe Hain Wo Ahal-E-Wafa Ka Naam, Ham Bhi Khade Hue Hain Gunhgaar Ki Tarah. “Majrooh Sultanpuri”

किसने रास्ते मे चांद रखा था,
मुझको ठोकर लगी कैसे।
वक़्त पे पांव कब रखा हमने,
ज़िंदगी मुंह के बल गिरी कैसे।।
आंख तो भर आयी थी पानी से,
तेरी तस्वीर जल गयी कैसे।।।
52— Kisane Raste Me Cahnd Rakha Tha, Mujhako Thokar Lagi Kaise? Waqt Pe Panv Kab Rakha Hamane? Zindagi Muh Ke Bal Geeri Kaise? Ankh To Bhar Aayi Thi Pani Se, Teri Tasveer Jal Gayi Kaise? “Gulzar”

ये आग और नहीं दिल की आग है नादां।
चिराग हो के न हो, जल बुझेंगे परवाने।।
53— Ye Aag Aur Nahin Dil Ki Aag Hai Nadan, Chiraag Ho Ke Na Ho, Jal Bujhenge Parwaane. “Majrooh Sultanpuri”

कभी लफ़्ज़ों से गद्दारी न करना
ग़ज़ल पढ़ना ,अदाकारी न करना।
मेरे बच्चों के आंसू पोंछ देना
लिफ़ाफ़े का टिकट जारी न करना।।
54— Kabhi Lafjo Se Gaddari Naa Karana, Gazal Padhana, Adakari Naa Karana. Mere Bachcho Ke Anshu Pochh Dena, Lifafe Ka Titat Jaari Na Karana.”Wasim Barelvi”

Best Urdu Shayari in Hindi for Husband

ऐसा डूबा हूँ
तेरी याद के समंदर में “फ़राज़”।
दिल का धड़कना भी
अब तेरे कदमों की सदा लगती है।।
55— Aise Duba Hun Teri Yaad Ke Samandar Me “Faraz” Dil Ka Dhadakna Bbhi, Ab Tere Kadmon Ki Sda Laggti Hai “Faraz Ahmed“

किसी से कोई भी उम्मीद रखना छोड़ कर देखो।
तो ये रिश्ते निभाना किस क़दर आसान हो जाये ।।
56— Kisi Se Koi Bhi Ummid Rakhana Chhod Kar Dekho, To Ye Riste Nibhana KiS Kadar Asaan Ho Jaye.”Wasim Barelvi”

सामने आए मेरे, देखा मुझे, बात भी की,
मुस्कुराए भी, पुरानी किसी पहचान की ख़ातिर।
कल का अख़बार था, बस देख लिया, रख भी दिया।।
57— Samane Aaye Mere, Dekha Mujhe Baat Ki, Muskuraye Bhi, Purani Kisi Pahchan Ki Khatir, Kal Ka Akhabaar Tha, Bas Dekh Liya, Rakh Bhi Diya “Gulzar”

पलक से पानी गिरा है, तो उसको गिरने दो।
कोई पुरानी तमन्ना, पिंघल रही होगी। ।
58— Palak Se Pani Gira Hain, To Use Girane Do, Koi Purani Tamanna, Pighal Rahi Hogi “Gulzar”

तकदीर का शिकवा बेमानी,
जीना ही तुझे मंजूर नहीं।
आप अपना मुकद्दर बन न सके,
इतना तो कोई मजबूर नहीं।।
59— Taqdir Ka Sikwa Bemani, jeena Hi Tujhe Manjoor Nahin Aap Apna Muqaddarban Na Sake, Itna To Koi Majboor Nahin. “Majrooh Sultanpuri”

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते।
इसीलिए तो तुम्हें हम नज़र नहीं आते ।।
60— Tumhari Raah Me Mitti Ke Ghar Nahi Aate, Isiliye To Tumhe Ham Nazar Nahi Aate.”Wasim Barelvi”

दुख अपना अगर हम को बताना नहीं आता।
तुम को भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता ।।
61— Dukh Apna Agar Hmako Batana Nahi Aata, Tum Ko Bhi To Andaaza Lagaana Nahin Aata.”Wasim Barelvi”

थी खबर गर्म के ग़ालिब के उड़ेंगे पुर्ज़े ।
देखने हम भी गए थे पर तमाशा न हुआ।।
62— Thi Khabar Garm Ke “Galib” Ke Udenge Purje, Dekhane Ham Bhi Gaye The, Par Tamasha Na Hua.”Mirza Ghalib”

टूट जाना चाहता हूँ, बिखर जाना चाहता हूँ,
में फिर से निखर जाना चाहता हूँ।
मानता हूँ मुश्किल हैं,
लेकिन में गुलज़ार होना चाहता हूँ।।
63— Tut Jana Chahata Hun, Bikhar Jana Chahata Hun, Main Fir Se Nikhar Jana Chahata Hun, Manata Hun Mushkil Hain, Lekin Main Gulzaar Hona Chahata Hun “Gulzar”

Urdu Love Shayari

उसकी बातें मुझे खुशबू की तरह लगती हैं।
फूल जैसे कोई सेहरा में खिला करता है।।
64— Uski Baatein Mujhe Khusboo Ki Tarah Lagti Hain, Phool Jaise Koi Sehara Mein Khila Karta Hai “Faraz Ahmed“

मुझे पढ़ता कोई तो कैसे पढ़ता।
मिरे चेहरे पे तुम लिक्खे हुए थे।।
65— Mujhe Padhata Koi To Kaise Padhata, Mire Chaihare Pe Tum Likkhe Huye The.”Wasim Barelvi”

लाग् हो तो उसको हम समझे लगाव ।
जब न हो कुछ भी , तो धोखा खायें क्या ।।
66— Laag Ho To Usako Ham Samjhe Lagaav, Jab Naa Ho Kuchh Bhi, To Dhokha Khaye Kya.”Mirza Ghalib”

तुम्हें जब रू-ब-रू देखा करेंगे ।
ये सोचा है बहुत सोचा करेंगे ।।
67— Tumhe Jab Ru-B-Ru Dekha Karenge, Ye Socha Hain Bahut Socha Karenge.”Mohsin Naqvi”

अब सोचते हैं लाएंगे तुझ सा कहाँ से हम ।
उठने को उठ तो आए तीरे आस्ताँ से हम ।।
68— Ab Sochte Hain Layenge Tujh Sa Kahan Se Ham, Uthane Ko Uth To Aaye Teere Aastan Se Ham. “Majrooh Sultanpuri”

Romantic Urdu Shayari IN Hindi

बीच आसमाँ में था बात करते- करते ही,
चांद इस तरह बुझा जैसे फूंक से दिया ।
देखो तुम इतनी लम्बी सांस मत लिया करो।।
69— Beech Aasamaan Me Tha Baat Karate-Karate Hi, Chand Is Tarah Bujha Jaise Funk Se Diya, Dekho Tum Itani Lambi Sanse Mat Liya Karo “Gulzar”

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं ।
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं ।।
70— Sitaro Se Aage Jahaan Aur Bhi Hain, Abhi Ishq Ke Intehaan Aur Bhi Hain. “Allama Iqbal”

हम उसे आंखों की दहलीज़ न चढ़ने देते ।
नींद आती न अगर ख़्वाब तुम्हारे लेकर ।।
71— Ham Use Ankhon Ki Dahaliz Naa Chadhane Dete, Neend Aati Na Agar, Khwaab Tumhaare Lekar. “Alok Shrivastava”

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक।
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।।
72— Aah Ko Chahaiye Ek Umar Asar Hote Tak, Kaun Jeeta Hai Tiri Zulfo Ke Sar Hone Tak.”Mirza Ghalib”

क्या बताऊँ ,कैसा ख़ुद को दरबदर मैंने किया ।
उम्र -भर किस – किसके हिस्से का सफ़र मैंने किया
तू तो नफरत भी न कर पायेगा इस शिद्दत के साथ
जिस बला का प्यार तुझसे बे-ख़बर मैंने किया।।
73— Kya Bataun, Kaisa Khud Ko Darbadar Maine Kiya, Umr-Bhar Kis Kisake Hisse Ka Safar Maine Kiya, Tu To Nafarat BhI Naa Kar Payega Is Shiddat Ke Sath, Jis Bala Ka Pyaar Tujhase Be-Khabr Maine Kiya .”Wasim Barelvi”

शबे इंतज़ार की कश्‍मकश ना पूछ
कैसे सहर हुई।
कभी एक चराग़ जला लिया,
कभी एक चराग़ बुझा दिया।।
74— Shabe Intezar Ki Kashmkash Na Punch, Kaise Sahar Hui. Kabhi Ek Charag Jala Liya, Kabhi Ek Charag Bujha Diya. “Majrooh Sultanpuri”

सिर्फ़ हाथों को न देखो कभी आँखें भी पढ़ो ।
कुछ सवाली बड़े ख़ुद्दार हुआ करते हैं ।।
75— Sirf Hatho Ko Na Dekho, Kabhi-Kabhi Ankhe Bhi Padhon, Kuchh Sawali Badi Khuddar Hua Karate Hain.”Mohsin Naqvi”

पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है ।
जाने न जाने गुल ही न जाने बाग़ तो सारा जाने है ।।
76— Patta-Patta Buta-Buta Haal Hamara Jane Hain, Jaane Naa Jaane Gul Hi Jane Baag To Saara Jane Hain. “Mir Taqi Mir”

कहू क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे है ।
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है।।
77— Kya Kahu Wo Badi masumiyat Se Puchh Baithe Hain, Kya Sachmuch Dil Ke Maaro Ko Badi taklif Hoti Hain “Gulzar”

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है।
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है।।
78— Har Ek Baat Pe Kahate Ho Tum Ki Tu Kya Hai, Tumhi Kaho Ki Ye Andaaz-E-Guftagu Kya Hain.”Mirza Ghalib”

इस दिल का कहा मनो एक काम कर दो,
एक बे-नाम सी मोहब्बत मेरे नाम करदो।
मेरी ज़ात पर फ़क़त इतना अहसान कर दो,
किसी दिन सुबह को मिलो, और शाम कर दो।।
79— Is Dil Ka Kaha Maano Ek Kaam Kar Do? Ek Be-Naam Si Mohabbat Mere Naam Kar Do. Meri Jaat Par Fakat Itana Ahasaan Kar Do, Kisi Din Subah Ko Milo, Aur Sham Kar Do “Gulzar”

बहाने और भी होते जो ज़िन्दगी के लिए ।
हम एक बार तिरी आरजू भी खो देते ।।
80— Bahane Aur Bhi Hote Jo Zindagi Ke Liye, Ham Ek Baar Tiri Aarjoo Bhi Kho Dete. “Majrooh Sultanpuri”

जब भी आता है मिरा नाम तिरे नाम के साथ ।
जाने क्यूँ लोग मिरे नाम से जल जाते हैं ।।
81— Jab Bhi Aata Hain Mira Naam Tire Naam Ke Sath, Jaane Kyu Log Mire Naam Se Jal Uthate Hain. “Qateel Shifai”

मिली जब उनसे नज़र,
बस रहा था एक जहां ।
हटी निगाह तो चारों तरफ थे वीराने ।।
82— Mili Jab Unse Nazar, Bas Raha Tha Ek Jahan, Hati nigaahe to chaaro taraf the veerane. “Majrooh Sultanpuri”

क्या ग़लत है जो मैं दीवाना हुआ, सच कहना ।
मेरे महबूब को तुम ने भी अगर देखा है ।।
83— Kya Galat Hai Jo Main Deewana Hua, Sach Kahana. Mere Mahbub Ko Tum Ne Bhi Agar Dekha Hai. “Majrooh Sultanpuri”

Best Urdu love shayari Hindi

फिर खो न जाएँ हम कहीं दुनिया की भीड़ में ।
मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी ।।
84— Fir Kho Naa Jaye Ham Kahi Duniya Ki Bheed Me, Milati Hain Paas Aane Ki Mohalat Kabhi-Kabhi. “Sahir Ludhianvi”

Urdu Sad Shayari

कोई ख़ामोश ज़ख़्म लगती है।
ज़िंदगी एक नज़्म लगती है।।
85— Koi Khamosh Zakhm Lagati HAI, Zindagi Ek Nazm Lagati hain “Gulzar”

ऐ मोहब्बत तिरे अंजाम पे रोना आया।
जाने क्यूँ आज तिरे नाम पे रोना आया।।
86— E Mohabbat Tire Anzaam Pe Rona Aaya, Jane Kyu Aaj Tire Naam Pe Rona Aaya. “Shakeel Badayuni”

वफ़ा की कौन सी मंज़िल पे उस ने छोड़ा था।
कि वो तो याद हमें भूल कर भी आता है।।
87— Wafa Ki Kaun Si Manzil Pe Us Ne Chhoda ThA, Ki Wo To Yaad Hame Bhul Kar Bhi Aata Hain.”Mohsin Naqvi”

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को।
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं।।
88— Nazar Lage N Kahi Usake Dast-O-Baju Ko, Ye Log Kyun Mere Zakhme Jigar Dekhate Hai.”Mirza Ghalib”

क्या दुःख है समन्दर को बता भी नहीं सकता
आंसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता।
तू छोड़ रहा है तो ख़ता इसमें तेरी क्या
हर शख्स मेरा साथ निभा भी नहीं सकता।।
89— Kya Dukh Hai Samndar Ko Bata Bhi Nahi Sakata, Ansu Ki Tarah Ankhn Tak Aa Bhi Nahi Sakata, Tu Chhod Raha Hai To Khata Isame Teri Kya, Har Shaks Mera Sath Nibha BhI Nahi Sakata.”Wasim Barelvi”

फुर्सत मिले तो कभी हमें भी याद कर लेना फ़राज़।
बड़ी पुर रौनक होती हैं यादें हम फकीरों की ।।
90— Fursat Mile To Kabhi Hamein Bhi Yaad Kar Lena Faraz, Badi Pur Raunak Hoti Hai Yaadein Hum Faqiron Ki “Faraz Ahmed“

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ ।
उस ने सदियों की जुदाई दी है।।
91— Jsi Ki Ankhon Me Kati Thi Sadiyan, Us Ne Sadiyaon Ki Judayi De Di “Gulzar”

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल।
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।।
92— Rango Me Daudate Firane Ke Ham Nahi Kayal, Jab Ankh Hi Se N Tapaka To Fir Lahu Kya Hai.”Mirza Ghalib”

बचा लिया मुझे तूफ़ाँ की मौज ने वर्ना ।
किनारे वाले सफ़ीना मिरा डुबो देते।।
93— Bacha Liya Mujhe Tufan Ki Mauj Ne Warna, Kinaare Waale Safeena Meea Dubo Dete. “Majrooh Sultanpuri”

Sad Urdu Shayari Hindi

यह सोच कर कोई अहदे-वफ़ा करो हमसे।
हम एक वादे पे उम्रें गुज़ार देते हैं ।।
94— Yah Soch Kar Koi Ahade-Wafa Karo Hamsae, Ham Ek Wade Pe Umren Guzaar Dete Hai.”Wasim Barelvi”

ज़िंदगी क्या किसी मुफ़लिस की क़बा है जिस में ।
हर घड़ी दर्द के पैवंद लगे जाते हैं ।।
95— Zindagi Kya Kisi Muflis Ki Qaba Hain Jis Me, Har Ghadi Dard Ke Paiband Lage Jate Hain. “Faiz Ahmad Faiz”

किस किस से मुहब्बत के वादे किये हैं तू ने फ़राज़।
हर रोज़ एक नया शख्स तेरा नाम पूछता है ।।
96— Kis Kis Se Muhabbat Ke Wade Kiye Hain Tune Faraz, Har Roz Ek Naya Shakhs Tera Naam Puchhata Hai “Faraz Ahmed“

वफ़ा की लाज में उसको मना लेते तो अच्छा था फ़राज़ ।
अना की जंग में अक्सर जुदाई जीत जाती है ।।
97— Wafa Ki Laaz Mein Usko, Mana Lete To Achcha Tha Faraz, Ana Ki Jang Mein Aksar Judai Jeet Jaati Hai “Faraz Ahmed“

जफा के जिक्र पर तुम क्यों संभलकर बैठ गए ।
तुम्हारी बात नहीं, बात है जमाने की ।।
98— Jawfa Ke Jikr Par Tum Kyon Sambhalkar Baith Gaye, Tumhari Baat Nahin, Baat Hai Zamaane Ki. “Majrooh Sultanpuri”

वो झूट बोल रहा था बड़े सलीक़े से ।
मैं ए’तिबार न करता तो और क्या करता ।।
99— Wo Jhuth Bol Raha Tha Bade Salike Se, Main Etbaar Naa Karata To Aur Kya Karata.”Wasim Barelvi”

उस से बिछड़े तो मालूम हुआ की
मौत भी कोई चीज़ है “फ़राज़”।
ज़िन्दगी वो थी जो हम उसकी
महफ़िल में गुज़ार आए ।।
100— Us Se Bichhade To Maloom Hua Ki, Maut Bhi Koi Cheez Hai Faraz, Zindagi Wo Thi Jo Ham Uski
Mahafil Mein Gujaar Aaye “Faraz Ahmed“

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता।
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता।।
101— Ye N Thi Hamari Kisamat Ki Visaal-E-Yaar Hota, Agar Aur Jeete Rahate Yahi Intizaar Hota.”Mirza Ghalib”

कुछ जख्मो की उम्र नहीं होती हैं ।
ताउम्र साथ चलते हैं, जिस्मो के ख़ाक होने तक।।
102— Kuchh To Zakhmo Ki Umr Nahi Hoti Hain, Taumr Sath Chalate Hain, Zismon Ke Khak Hone Tak “Gulzar”

मुसलसल हादसों से बस मुझे इतनी शिकायत है ।
कि ये आँसू बहाने की भी तो मोहलत नहीं देते ।।
103— Musalasal Hadason Se Bas Mujhe Itani Shikayat Hai, Ki Ye Aansu Bahane Ki Bhi Mohalat Nahi Dete.”Wasim Barelvi”

सैर-ए-साहिल कर चुके ऐ मौज-ए-साहिल सर ना मार ।
तुझ से क्या बहलेंगे तूफानों के बहलाए हुए ।।
104— Sair-E-Sahil Kar Chuke Ae Mauj-E-Sahil Sar Na Mar, Tujh Se Kya Bahalenge Tufanon Ke Bahlaaye Hue. “Majrooh Sultanpuri”

एक बार तो यूँ होगा, थोड़ा सा सुकून होगा ।
ना दिल में कसक होगी, ना सर में जूनून होगा।।
105— Ek Baar To U Hoga, Thoda Sa Sukun Hoga, Naa Dil Me Kasak Hogi, Naa Sar Me Junun Hoga “Gulzar”

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी ।
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती ।।
106— Ham wahan hai jahan se ham ko bhi, Kuchh hamari khabar nahin aati.”Mirza Ghalib”

अब तक मिरी यादों से मिटाए नहीं मिटता ।
भीगी हुई इक शाम का मंज़र तिरी आँखें ।।
107— Ab Tak Miri Yaado Se Mitaye Nahi Mitata, Bheegi Huyi Sham Ka Manzar Tiri Ankhe.”Mohsin Naqvi”

मैं चुप कराता हूं हर शब उमड़ती बारिश को ।
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है।।
108— Main Chup Hun Har Shab Umadati Barish Ko, Magar Ye Roz Gayi Baat Chhed Deti Hain “Gulzar”

Read More : 121+ Famous Shayari In Hindi Urdu

रहते थे कभी जिनके दिल में,
हम जान से भी प्यारों की तरह ।
बैठे हैं उन्हीं के कूंचे में हम,
आज गुनहगारों की तरह ।।
109— Rehte The Kabhi Jinke Dil Mein, Hum Jaan Se Bhi Pyaron Ki Tarah. Baithe Hain Unhi Ke Kunche Mein Hum, Aaj Gunahgaron Ki Tarah. “Majrooh Sultanpuri”

फिर इतने मायूस क्यूँ हो उसकी बेवफाई पर “फ़राज़”।
तुम खुद ही तो कहते थे की वो सब से जुदा है ।।
110— Phir Itne Maayus Kyun Ho Uski Bewafaai Par, Tum Khud Hi To Kehate The Wo Sab Se Juda Hai “Faraz Ahmed”

उसे तेरी इबादतों पे यकीन है नहीं “फ़राज़”।
जिस की ख़ुशियां तू रब से रो रो के मांगता है ।।
111— Use Teri Ibaadaton Pe Yakeen Hai Nahin, Jis Ki Khushiyan Tu Rab Se Ro Ro Ke Maangta Hai “Faraz Ahmed“

ग़म-ए-हयात ने आवारा कर दिया वर्ना।
थी आरजू तेरे दर पे सुबह-ओ-शाम करें ।।
112— Gham-E-Hayat Ne Aawara Kar Diya Warna, Thi Aarjoo Tere Dar Pe Subah-O-Sham Karein. “Majrooh Sultanpuri”

अपने साए से चौंक जाते हैं ।
उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा।।
113— Apane Saye Se Chauk Jate Hain, Umr Guzari Hain Is Kadar Tanha “Gulzar

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में ।
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया।।
114— Ham Ne Aksar Tumhari Raahon Me Ruk Kar Apana Hi Intzaar Kiya “Gulzar”

दर्द हल्का है साँस भारी है ।
जिए जाने की रस्म जारी है।।
115— Dard Halka Hain sans Bhari Hain, Jiye Jane Ki Rasm Jari hain “Gulzar”

तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे।
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे।।
116— Teri Yaadon Ke Jo Akhiri The Nishan, Dil Tadapata Raha, Ham Mitate Rahe.. Khat Likhe The Jo Tumane Kabhi pyaar Me, Usako Padhate Rahe Aur Jalate Rahe “Gulzar”

वो रोज़ देखता है डूबे हुए सूरज को “फ़राज़”।
काश मैं भी किसी शाम का मंज़र होता ।।
117— Wo Roz Dekhta Hai Dube Hue Suraj Ko, Kaash Main Bhi Kisi Sham Ka Manzar Hota “Faraz Ahmed“

Urdu love shayari Hindi

मेरे दर्द को भी आह का हक़ हैं,
जैसे तेरे हुस्न को निगाह का हक़ है।
मुझे भी एक दिल दिया है भगवान ने,
मुझ नादान को भी एक गुनाह का हक़ हैं।।
118— Mere Dard Ko Bhi Aah Ka Haq Hai, Jaise Tere Husn Ko Nigah Ka Haq Hai, Mujhe Bhii Ek Dil Diya Hain Bhagwaan Ne, Mujh Nadaan Ko Bhi Ek Gunaah Ka Haq Hain “Gulzar”

जो कभी हर रोज़ मिला करते थे ।
वो चेहरे तो अब ख़ाब ओ ख़याल हो गए ।।
119— Jo Kabhi Har Roz Mila Karte The, Wo Chehare To Ab Khab-O-Khyal Ho Gaye “Faraz Ahmed“

उसकी जफ़ाओं ने मुझे
एक तहज़ीब सिख दी है फ़राज़।
मैं रोते हुए सो जाता हूँ पर
शिकवा नहीं करता ।।
120— Uski Zafaaon Ne Mujhe, Ek Tahzeeb Sikha Di Hai Faraz, Main Rote Hue So Jaata Hun Pa, Shikwa Nahin Karta “Faraz Ahmed“

अपने ही होते हैं जो दिल पे वार करते हैं फ़राज़।
वरना गैरों को क्या ख़बर की दिल की जगह कौन सी है ।।
121— Apne Hi Hote Hai Jo Dil Pe Waar Karte Hai “Faraz”, Warna Gairon Ko Kya Khabar Ki Dil Ki Jagah Kaun Si Hai. “Faraz Ahmed“

दूरी हुई ,तो उनसे करीब और हम हुए।
ये कैसे फ़ासिले थे ,जो बढ़ने से कम हुए ।।
122— Duri Huyi, To Unase Kareeb Aur Ham Huye, Ye Kaise Fasile The, Jo Badhane Se Kam Huye.”Wasim Barelvi”

Leave a Comment